स्टॉफ लाइब्रेरी

 

       चूंकि संसद का मुख्य ग्रंथालय विशेष रूप से दोनों सदनों के सदस्यों के उपयोग के लिए है अतः साठ के प्रारम्भिक दशक में संसद स्टॉफ के उपयोग के लिए एक पृथक लाइब्रेरी स्थापित की गई   इस लाइब्रेरी का संचालन ग्रंथालय प्रभाग द्वारा किया जाता है तथा वर्तमान में दोनों सचिवालयों अर्थात राज्य सभा और लोक सभा सचिवालयों के 3693 अधिकारी-कर्मचारी इसके सदस्य हैं। दोनों सचिवालयों के अधिकारी और कर्मचारियों को सदस्य बनने पर, लाइब्रेरी के नियमों एवं शर्तों के अनुसार पुस्तकें अपने नाम से जारी करवाने की भी अनुमति है।

 

       स्टॉफ लाइब्रेरी अपने सदस्यों में पढ़ने के प्रति अभिरुचि विकसित करने को बढ़ावा भी देती है।  इसलिए सदस्य कर्मचारियों से प्राप्त सुझावों के आधार पर समय-समय पर नई पुस्तकें मंगवाकर संग्रह में वृद्धि की जाती है।  वर्तमान में स्टॉफ लाइब्रेरी में लगभग 34515 पुस्तकें हैं।  लाइब्रेरी में 14 दैनिक समाचार पत्र (7 अंग्रेजी, 5 हिन्दी, 1 पंजाबी, 1 उर्दू) और 31 पत्रिकाएं (17 अंग्रेजी एवं 14 हिन्दी) नियमित रूप से आती हैं। 

 

       स्टॉफ लाइब्रेरी में प्रत्येक माह लगभग  (50-60) नई पुस्तकों को शामिल किया जाता है।  लाइब्रेरी की सभी प्राप्तियों का डिवी डेसीमल वर्गीकरण (डीडीसी) स्कीम के 22वें संस्करण के अनुसार वर्गीकरण किया जाता है। 

 

       स्टॉफ लाइब्रेरी की पुस्तकों का ब्यौरा लोक सभा वेबसाइट पर "लिबसिस पैकेज"  में उपलब्ध है।  ऑन लाइन ग्रंथालय पुस्तक सूची में लेखक, शीर्षक, विषय और "की वर्ड्स" आधारित खोज की जानकारी भी दी गई है।  स्टॉफ लाइब्रेरी में नई पुस्तकों को शामिल किए जाने की जानकारी प्रत्येक माह लोक सभा इन्ट्रानेट पर भी उपलब्ध कराई जाती है। 

 

       सामान्यतः स्टॉफ लाइब्रेरी से समय-समय पर उन पुस्तकों-पत्रिकाओं को हटा दिया जाता है जिनका नवीनतम संस्करण उपलब्ध है तथा जिनकी उपयोगिता सीमित है।  इस प्रकार की पुस्तकें स्टॉफ सदस्यों को नःशुल्क वितरित कर दी जाती है।