Sixteenth Lok Sabha
सदस्‍य जीवन-वृत्त


सामंत,श्री अच्‍युतानंद
निर्वाचन क्षेत्र   : कंधमाल (ओडिशा)
दल का नाम     : बीजू जनता दल(बी.ज.द.)
ईमेल : achyuta[DOT]samanta[AT]sansad[DOT]nic[DOT]in achyuta[AT]kiit[DOT]ac[DOT]in
 
पिता का नाम स्वर्गीय श्री अनादिचरण सामंत
माता का नाम स्वर्गीय श्रीमती नीलिमा रानी सामंत
जन्म तिथि 20/01/1964
जन्म स्थान कलाटबैंक कटक ओडिशा
शैक्षिक
योग्यता
एम.एससी (केमिस्टी) पी.एचडी उत्कल विश्वविद्यालय, केआईआईटी विश्वविद्यालय ओडिशा
व्यवसाय सामाजिक कार्यकर्ता
शिक्षा शास्‍त्री
स्थायी पता
एन/92, आईआरसी गांव, पी. ओ. नयापल्ली खुर्दा,
भुवनेश्वर ओडिशा-751015
09437000928, 09937020928 (मो.)
वर्तमान पता
205 ओडिशा भवन, चाणकयपुरी,
नई दिल्ली- 110021
09437000928, 09937020928 (मो.)
जिन पदों पर कार्य किया
मई, 2019 सत्रहवीं लोक सभा के लिए निर्वाचित


 
साहित्यिक, कलात्मक और वैज्ञानिक उपलब्धियां
कलात्मक और वैज्ञानिक उपलब्धियां, भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा बच्चों के कल्याण के लिए साहित्य राष्ट्रीय पुरस्कार, 2016 और भारतीय आर्थिक संघ द्वारा पहली बार कौटिल्य पुरस्का, देश और विदेश में लगभग 100 प्रेरक भाषण, मुख्य भाषण और स्थापना दिवस व्याख्यान दिए, दुनिया भर में प्रतिष्ठित विश्विद्यालयों से 37 ऑनोरिस कोसा डॉक्टरेट पुरस्कार से सम्मनित, गुसी शांति पुरस्कार अंतर्राष्ट्रीय, सहित बहरीन मेमं सबसे उच्च नागरिक पुरस्कार से सम्मानित और इसके अलावा 50 से अधिक राष्ट्रीय और 200 से अधिक राजकीय सम्मान केआईआईटी और केआईआईएस शुरू किया
 
सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यकलाप
दूरस्थ गांव कलाटबैंक कटक को एक स्मार्ट गांव में रूपांतरिक किया एक मॉडल पंचायत (गांवों के समूह) में 1987 से शून्य गरीबी, शून्य भूख और शून्य निरक्षरता प्रापत करने के लिए लगातार काम कर रहे हें, शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा, स्वास्थ्य, कला, संस्कृति, साहित्य, ग्रामीण विकास, समाज सेवा, महिला सशक्तीकरण, मीडिया, मनोरंजन और अध्यात्मवाद के क्षेत्र में अपार योगदान, आर्ट ऑफ गिविंग शांति को बढावा देने के लिए जीवन का एक दर्शन प्रस्तुत किया
 
विशेष अभिरुचि
समाज में शांति और प्रसन्नता का प्रसार करना
 
 
 
विदेश यात्रा
अनेक देशों की यात्रा की
 
अन्य जानकारी
मानद, विश्वविद्यालय और केआईएसएस डीम्ड मानद विश्विद्यालय (दुनिया में पहला जनजातीय विश्वविद्यालय) और दुनिया के किसी भी जनजातीय विश्विवद्यालय कुलाधिपति बनने वाले पहले व्यक्ति (एक) विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) 2008-11 और 2011-2014 लगातार दो बार और (दो) अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की कार्यकारी समिति, भारत सरकार के कई निकायों के सदस्य के रूप में कार्य किया, जैसे एमसीटीई, आईएसटीई, आईएससीए, कॉयर बोर्ड, कपार्ट आदि और असम और ओडिशा के केंद्रीय विश्विद्यालय की अकादमिक परिषद, मणिपुर सरकार शिक्षा विभाग, 2018-20121 के लिए नामनिर्दिष्ट मानद प्रधान सलाहकार, भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसासिएशन (आईएससीए), 2017-2018 के महाध्यक्ष, चार राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय फैलोशिप से सम्मानित-आईएसटीई, सीएसआइ्र और एपीएसीएच



राष्‍ट्रीय सूचना विज्ञान केन्‍द्र द्वारा इस साइट को तैयार और प्रस्‍तुत किया गया है।
इस वेबसाइट पर सामग्री का प्रकाशन, प्रबंधन और अनुरक्षण सॉफ्टवेयर एकक, कंप्‍यूटर (हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर) प्रबंधन शाखा, लोक सभा सचिवालय द्वारा किया जाता है।