प्रिंट

सत्रहवीं लोक सभा

>

Title: Introduction of Rashtriya Raksha University Bill, 2020.

THE MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF HOME AFFAIRS (SHRI G. KISHAN REDDY): Sir, I beg to move for leave to introduce a Bill to establish and declare an institution to be known as the Rashtriya Raksha University as an institution of national importance and to provide for its incorporation and matters connected therewith or incidental thereto. …(Interruptions)

माननीय अध्यक्षः प्रस्ताव प्रस्तुत हुआः

"कि राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के रूप में ज्ञात संस्था को राष्ट्रीय महत्व की संस्था के रूप में स्थापित और घोषित करने के लिए तथा उसके निगमन और उससे संबद्ध तथा उसके आनुषंगिक विषयों का उपबंध करने वाले विधेयक को पुरःस्थापित करने की अनुमति दी    जाए "

श्री अधीर रंजन चौधरी (बहरामपुर) : महोदय, प्लीज आप मुझे उनका ध्यानाकर्षण कराने  दीजिए । ...(व्यवधान) आप खुद यह कहते हैं कि किसी को किसी के साथ मिलना नहीं चाहिए । आप खुद यह कहते हैं कि सावधनी बरतनी चाहिए ।...(व्यवधान) मुझे बोलने दीजिए ।...(व्यवधान) माननीय अध्यक्ष : माननीय सदस्य, आप यह विषय बिल इंट्रोड्यूज़ होने के बाद रख दीजिएगा ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, ऐसा क्यों कर रहे हैं?...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं मना थोड़ी कर रहा हूं ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, हम आपकी सारी बातें मानते हैं ।...(व्यवधान) आप इतनी कंजूसी मत किया कीजिए ।

माननीय अध्यक्ष : आप विधेयक को इंट्रोड्यूज़ करने के बाद अपनी बात रख लीजिएगा । मैं आपको परमीशन दूंगा ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, मैं उनका ध्यानाकर्षण कराना चाहता हूं ।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपको ध्यानाकर्षण के लिए परमीशन दूंगा । आप एक मिनट के लिए बैठ जाइए ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपको ध्यानाकर्षण के लिए परमीशन दूंगा ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्षः प्रश्न यह हैः

"कि राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के रूप में ज्ञात संस्था को राष्ट्रीय महत्व की संस्था के रूप में स्थापित और घोषित करने के लिए तथा उसके निगमन और उससे संबद्ध तथा उसके आनुषंगिक विषयों का उपबंध करने वाले विधेयक को पुरःस्थापित करने की अनुमति दी    जाए "

 

The motion was adopted.

माननीय अध्यक्ष : माननीय मंत्री जी, अब विधेयक को पुर:स्थापित कीजिए ।

SHRI G. KISHAN REDDY: Sir, I introduce* the Bill. …(Interruptions)

__________

DR. SHASHI THAROOR (THIRUVANANTHAPURAM): I have a point of order to make. किसी ने भी बिल को देखा ही नहीं है ।…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : आप एक मिनट के लिए रुक जाइए ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं अभी आप सभी को व्यवस्था देता हूं ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : आइटम नंबर – 7 (सी), श्री जी. किशन रेड्डी जी ।

…(व्यवधान)

 

 

>

Title: Introduction of Rashtriya Raksha University Bill, 2020.

THE MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF HOME AFFAIRS (SHRI G. KISHAN REDDY): Sir, I beg to move for leave to introduce a Bill to establish and declare an institution to be known as the Rashtriya Raksha University as an institution of national importance and to provide for its incorporation and matters connected therewith or incidental thereto. …(Interruptions)

माननीय अध्यक्षः प्रस्ताव प्रस्तुत हुआः

"कि राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के रूप में ज्ञात संस्था को राष्ट्रीय महत्व की संस्था के रूप में स्थापित और घोषित करने के लिए तथा उसके निगमन और उससे संबद्ध तथा उसके आनुषंगिक विषयों का उपबंध करने वाले विधेयक को पुरःस्थापित करने की अनुमति दी    जाए "

श्री अधीर रंजन चौधरी (बहरामपुर) : महोदय, प्लीज आप मुझे उनका ध्यानाकर्षण कराने  दीजिए । ...(व्यवधान) आप खुद यह कहते हैं कि किसी को किसी के साथ मिलना नहीं चाहिए । आप खुद यह कहते हैं कि सावधनी बरतनी चाहिए ।...(व्यवधान) मुझे बोलने दीजिए ।...(व्यवधान) माननीय अध्यक्ष : माननीय सदस्य, आप यह विषय बिल इंट्रोड्यूज़ होने के बाद रख दीजिएगा ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, ऐसा क्यों कर रहे हैं?...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं मना थोड़ी कर रहा हूं ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, हम आपकी सारी बातें मानते हैं ।...(व्यवधान) आप इतनी कंजूसी मत किया कीजिए ।

माननीय अध्यक्ष : आप विधेयक को इंट्रोड्यूज़ करने के बाद अपनी बात रख लीजिएगा । मैं आपको परमीशन दूंगा ।

…(व्यवधान)

श्री अधीर रंजन चौधरी : महोदय, मैं उनका ध्यानाकर्षण कराना चाहता हूं ।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपको ध्यानाकर्षण के लिए परमीशन दूंगा । आप एक मिनट के लिए बैठ जाइए ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपको ध्यानाकर्षण के लिए परमीशन दूंगा ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्षः प्रश्न यह हैः

"कि राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय के रूप में ज्ञात संस्था को राष्ट्रीय महत्व की संस्था के रूप में स्थापित और घोषित करने के लिए तथा उसके निगमन और उससे संबद्ध तथा उसके आनुषंगिक विषयों का उपबंध करने वाले विधेयक को पुरःस्थापित करने की अनुमति दी    जाए "

 

The motion was adopted.

माननीय अध्यक्ष : माननीय मंत्री जी, अब विधेयक को पुर:स्थापित कीजिए ।

SHRI G. KISHAN REDDY: Sir, I introduce* the Bill. …(Interruptions)

__________

DR. SHASHI THAROOR (THIRUVANANTHAPURAM): I have a point of order to make. किसी ने भी बिल को देखा ही नहीं है ।…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : आप एक मिनट के लिए रुक जाइए ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं अभी आप सभी को व्यवस्था देता हूं ।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : आइटम नंबर – 7 (सी), श्री जी. किशन रेड्डी जी ।

…(व्यवधान)

 

 

राष्‍ट्रीय सूचना विज्ञान केन्‍द्र द्वारा इस साइट को तैयार और प्रस्‍तुत किया गया है।
इस वेबसाइट पर सामग्री का प्रकाशन, प्रबंधन और अनुरक्षण सॉफ्टवेयर एकक, कंप्‍यूटर (हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर) प्रबंधन शाखा, लोक सभा सचिवालय द्वारा किया जाता है।